यूपीएससी ऑफिसर कैसे बने

2020 मे IAS ऑफिसर की तैयारी कैसे करें – Top 5 Tips UPSC Exam

IAS Interview Education
Share this

आप लोगों को तो पता ही होगा कि एक IAS ऑफिसर की समाज में शक्ति और प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है। तो आपको भी 2020 में IAS ऑफिसर बनना है तो इस तरह से तैयारी करें।

इसका कारण है कि भारत में सभी सरकारी तंत्र की शक्तियों का केंद्र एक IAS ऑफिसर के हाथ में ही होता है और सबसे बड़ी बात यह है कि शहर के Police Officer भी IAS यानी कि,

  • डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (DM)

के अधीन अपना सारा काम करते हैं और IAS ऑफिसर के पास असीमित शक्तियां होती है जिसके कारण इस पद की जिम्मेदारी तथा प्रतिष्ठा और भी बढ़ जाती है।

इतनी बड़ी जिम्मेदारी के लिए सही व्यक्ति का चुनाव भी अपने आप में बहुत ही बड़ी जिम्मेदारी है इसलिए Civil Services Examination को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि सिर्फ Talented अभ्यार्थी का ही Selection हो सके और सिविल सेवा परीक्षा में लगभग 8-10 लाख विद्यार्थी में से केवल 1000 विद्यार्थी का ही सिलेक्शन हो पाता है और साधारण Graduate student से लेकर इसमें Doctor, engineer, scientist, और भी जो बड़े-बड़े डिग्रीधारी स्टूडेंट होते हैं वह भी इस परीक्षा में भाग लेते हैं इसलिए इस परीक्षा में चयन हो पाना बहुत ही कठिन होता है इसलिए Civil Services Examination को देश की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है।

आपको बता दें कि हर विद्यार्थी अपने जीवन में एक बार IAS ऑफिसर बनने के लिए अवश्य ही सोचता है लेकिन इस पद से जुड़े सम्मान सामाजिक प्रतिष्ठा तथा शक्ति इतनी ज्यादा है कि सभी लोग IAS officer बनना चाहते हैं और इस सर्विस की शक्ति एक नीली बत्ती की गाड़ी या हूटर तक ही सीमित नहीं होती है बल्कि हर एक व्यक्ति को प्रभावित तथा बदलने की क्षमता भी रखती है और भी या भारत देश की सबसे बड़ी सरकारी नौकरी(Government Job) है जो हर व्यक्ति के जीवन को कहीं ना कहीं प्रभावित करती है।

IAS civil सर्विस ना होकर इससे कहीं बड़ी जिम्मेदारी है IAS ऑफिसर सभी स्तरों पर हो रहे प्रयासों को एक सूत्र में पिरो कर सभी के प्रयासों को एक ही सही दिशा प्रदान करता है और वह जिले में एक लीडर की तरह काम करता है तथा सभी को अच्छे कार्य करने के लिए प्रेरित भी करता है वह चाहे शहर हो या जिला हो चाहे State government हो या फिर Indian government हो हर Department के शीर्ष पदों पर आईएएस अधिकारी ही होते हैं इसलिए भी यह सर्विस सभी की Favorite सर्विस होती है।

आईएएस अफसर कैसे बने
UPSC Exam Prepration

फॉर्म भरने से लेकर आईएएस बनने तक का संपूर्ण जानकारी

यूपीएससी परीक्षा तीन चरणों में होता है

  • 1. Preliminary Exam
  • 2. Mains Exam
  • 3. Interview & Personality Test

नोटिफिकेशन

हर साल यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन(UPSC) फरवरी माह में सिविल सर्विस का Notification प्रकाशित करता है जिसमें आईएस के साथ-साथ लगभग 24 Central Civil Service के लिए भी नोटिफिकेशन दिया जाता है।
भारत में Ice यानी कि इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस, आर IPS यानी कि इंडियन पुलिस सर्विस तथा IFS यानी इंडियन फॉरेस्ट सर्विस को All India Service कहा जाता है बाकी की सर्विस सेंट्रल सिविल सर्विसेज में आती है इनमें से सबसे शीर्ष पर IFS यानी इंडियन फॉरेन सर्विस होती है।

IAS परीक्षा में हर साल लगभग एक लाख अभ्यर्थी फॉर्म भरते हैं लेकिन केवल 1 हजार अभ्यर्थियों का ही चयन हो पाता है इसका अर्थ यह है कि Passing percentage बहुत ही कम रहता है और यदि सीटें कम हुई तो पासिंग परसेंटेज और भी ज्यादा कम हो जाता है पिछले कुछ सालों से इस विज्ञापन में लगभग 1000 सीटें विज्ञापित की जाती है तथा अंतिम मेरिट के अनुसार सभी Selected candidates को उनके क्रम के अनुसार सर्विसेज यानी की Job प्रदान की जाती है।

  • एलिजिबिलिटी + नागरिकता

इस exam में Indian नागरिकों के साथ-साथ तिब्बत के रिफ्यूजी नेपाल तथा भूटान के नागरिक भी शामिल हो सकते हैं परंतु आईएस तथा आईपीएस में भर्ती के लिए अभ्यर्थियों को India का नागरिक होना अनिवार्य है और इस परीक्षा में भारतीय मूल के लोग जो अलग-अलग countries में है वह भी शामिल हो सकते हैं।

  • शैक्षिक योग्यता/educational qualification

इस परीक्षा के लिए किसी भी Recognized institute से किसी भी विषय में ग्रेजुएट होना अनिवार्य है और फाइनल वर्ष यानी की Apparing वाले छात्र भी इस परीक्षा में भाग ले सकते हैं और इस परीक्षा की खास बात यह है कि ग्रेजुएशन में किसी भी Minimum percentages की रिक्वायरमेंट नहीं होती है और साथ ही साथ किसी भी subject की अनिवार्यता नहीं होती है किसी भी विषय में ग्रेजुएट पास होना चाहिए और इसमें फायदा यह भी है कि स्नातक में कम भी Percentages वाले Student परीक्षा में भाग ले सकते हैं।

  • आयु सीमा- Age limit

इस Exam के लिए अभ्यर्थियों को 21 साल के निम्नतम आयु का होना अनिवार्य है और अलग-अलग श्रेणियों के लिए अलग-अलग Maximum आयु सीमा निर्धारित की गई है वहीं सामान्य श्रेणी के लिए 32 वर्ष अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 35 वर्ष और एससी और एसटी के लिए 37 वर्ष तक की Age निर्धारित की गई है और वही विकलांग श्रेणी(PH) में और भी ज्यादा छूट दी जाती है इसमें आयु की गणना विज्ञप्ति वर्ष की दिनांक 1 अगस्त से की जाती है।

  • फार्म भरने पर प्रतिबंध

जो Student पिछले किसी भी परीक्षा में IAS यानी कि इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस या IFS इंडियन फॉरेन सर्विस में Select हो चुके हैं वह Student फॉर्म नहीं भर सकते हैं उन्हें प्रतिबंध होता है।

  • फार्म भरने से कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

फार्म भरते समय अभ्यार्थी को Basic information जैसे कि नाम पिता का नाम, माता का नाम और अपना Resume इत्यादि भरने होते हैं सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिए सेंटर भी खुद Candidate को चयन करना होता है और यह परीक्षा देश के 72 शहरों के विभिन्न केंद्रों पर एक साथ आयोजित होती है और फॉर्म भरने के लिए केवल 1 महीने का ही समय मिलता है जिसकी सारी प्रक्रिया Online की जाती है।

इसे भी पढ़े:- IPS अपनी टोपी IAS के सामने क्यों नहीं पहनता है ?

खास बात यह है कि Candidates को सिविल सेवा मुख्य परीक्षा का optional सब्जेक्ट भी फॉर्म भरते समय चुनना होता है और नोटिफिकेशन में 26 ऑप्शनल subject की सूची में से किसी एक सब्जेक्ट का ही चुनाव करना होता है तथा फार्म में उसका अंकित करना होता है और फॉर्म भरते समय आपको अपना परीक्षा का माध्यम भी बताना होगा  आप Hindi and English दोनों में से किसी भी माध्यम से परीक्षा दे सकते हैं।

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कैसे करें
IAS Exam Prepration 

फार्म भरते समय आपको अपनी पसंद की Service को कर्मबार बताना होगा इससे सर्विस प्रेफरेंस भी कहते हैं साथ ही साथ आपको अपनी पसंद के state की सूची भी क्रमबद्ध रूप से देनी होती है कि आप कहां सर्विस करना पसंद करेंगे इसके लिए आपको Form भरते समय कोई प्रश्न नहीं पूछा जाता है।

यूपीएससी Pre एग्जाम के लिए नोटिफिकेशन फरवरी में जारी कर दिया जाता है इसके जो भी Interested candidates हैं अंतिम तिथि तक फॉर्म भर सकते हैं।

  • Exam fee

सामान्य और पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों के लिए फॉर्म फीस ₹100 लगता है तथा महिला उम्मीदवारों की कोई भी exam फीस नहीं लगता है और वही sc-st और विकलांग यानी की Ph उमीद्वारों की Form fee भी नहीं लगता है।

  • Attempt

इस exam में हर श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए Attempt निर्धारित किए गए हैं अटेंप्ट का मतलब है किसी भी श्रेणी के Candidate इस परीक्षा में कितनी बार शामिल हो सकते हैं

सामान्य श्रेणी के लिए 6 Attempt निर्धारित किए गए हैं।अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 9 अटेम्प्ट्स और एससी एसटी के लिए कोई सीमा नहीं है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि फार्म भरने को अटेम्प्ट count नहीं किया जाता है प्रारंभिक परीक्षा के किसी भी एक पेपर में सम्मिलित होने को Attempt मान लिया जाता है।

  • परीक्षा प्लान/Exam plan

यूपीएससी इस परीक्षा को दो चरणों में आयोजित करता है।

पहला चरण है प्रारंभिक परीक्षा(preliminary examination) तथा दूसरा चरण है मुख्य परीक्षा(Main exam) और वही मुख्य परीक्षा के 2 भाग होते हैं, पहला मुख्य लिखित परीक्षा(Main written test) तथा दूसरा इंटरव्यू(Interview) होता है। जंहा पहले चरण को प्रारंभिक परीक्षा कहते हैं तथा इसके Marks फाइनल Merit में नहीं जोड़े जाते हैं और यह परीक्षा सिर्फ Candidates की संख्या कम करने के लिए किया जाता है इसलिए यह Qualifying मात्र है। और मुख्य परीक्षा के दोनों भागों में अर्जित Marx के आधार पर Final मेरिट लिस्ट बनती है।

  • आईएएस परीक्षा का सिलेबस / syllabus

सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं पहला पेपर में General studies के सारे एरिया कवर होते हैं यह सारे टॉपिक इस तरह है history, geography, economics, current events, general science, environmental, technology, Indian polity, and governance इत्यादि होते हैं जबकि सेकंड पेपर यानी कि Aptitude, SSC Banking Exams टाइप के क्वेश्चन रहते हैं जैसे कि Comprehensive, Logical reasoning एवं बेसिक Numeracy आदि होते हैं।

  • सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा

सिविल सेवा परीक्षा का पहला पड़ाव सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा है जिससे जून माह में संपूर्ण भारत के 72 शहरों के विभिन्न केंद्रों पर एक साथ आयोजित किया जाता है और Civil Services Preliminary Examination का आयोजन देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्था यानी कि UPSC द्वारा प्रत्येक वर्ष किया जाता है परीक्षा के लिए लगभग 10 से 12 लाख लोग आवेदन करते हैं तथा लगभग 5 लाख लोग exam देते हैं और इस परीक्षा में Selection के Chances कम होने के कारण तथा पेपर के Standard के कारण इसे बहुत कठिन परीक्षा माना जाता है।
आपको बता दें कि यह परीक्षा दो Shifts में आयोजित की जाती है जिसमें प्रारंभिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं पहला पेपर सामान्य अध्ययन है जो कि सामान्य अध्ययन विषयों से जुड़ा हुआ होता है तथा दूसरा सामान्य अध्ययन-2 पेपर है जो एप्टिट्यूड से जुड़ा हुआ है इसमें सिर्फ Qualified करना होता है जो कि प्रारंभिक परीक्षा की Merit में इसके नंबर नहीं  हैं।

इसे भी पढ़ें:- UPSC इंटरव्यू में पूछे गए सवाल और जवाब ?

पहले पेपर में 100 Questions होते हैं तथा 2 घंटे का समय होता है और प्रत्येक प्रश्न 2 Marks का होता है और इसी तरह दूसरे पेपर में 80 question सोते हैं तथा 2 घंटे का समय होता है और यह परीक्षा 1/3 की Negative marking होती है इसका अर्थ यह है कि एक क्वेश्चन गलत होने पर सही क्वेश्चन पर मिलने वाले Marks का 1/3 मार्क्स काटे जाएंगे।

और ध्यान रखने वाली बात यह है कि preliminary examination में पास होना अनिवार्य है तभी आप सिविल सेवा Main exam देने के लिए आप योग्य माने जाएंगे।

  • सिविल सेवा मुख्य परीक्षा/Civil Services Main Examination

आईएएस Prelims परीक्षा का result जुलाई माह के अंत तक घोषित कर दिया जाता है।

NOTE:- 50 days after pre exam results announced.

जो भी Candidate इस Exam को पास कर लेते हैं उन्हें सिविल सेवा का Main exam का फॉर्म भरने के लिए दोबारा Online आवेदन करना होता है जिसके लिए लगभग आपको 20 दिन का समय दिया जाता है और इसे डिटेल्स Application form भी कह सकते हैं वहीं आईएएस इंटरव्यू में इसका बहुत महत्व होता है मुख्य परीक्षा लिखित में विज्ञापित सीटों की संख्या के 15 गुना Candidates का चयन किया जाता है और इस परीक्षा में सभी पेपर subject होते हैं तथा सभी की समय सीमा 3 घंटे की होती है।

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में दो तरह के पेपर होते हैं एक ऐसे पेपर होते हैं जो सभी के लिए समान यानी कि Common होते हैं और दूसरे Optional subject के पेपर होते हैं जो कि प्रत्येक subject के लिए अलग-अलग होते हैं जो भी अभ्यर्थी optional सब्जेक्ट का चयन करते हैं तथा उसी के पेपर देने होते हैं सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में कुल 9 पेपर होते हैं जिनका की पूरा 1750 मार्च होता है इसमें आपको 9 में से 7 सब्जेक्ट में सबसे ज्यादा Focus करना है क्योंकि 7 सब्जेक्ट Paper से ही मेरिट बनाई जाती है English तथा सामान्य भाषा का पेपर केवल पास करना होता है तथा इसके MARKS नहीं जोड़े जाते हैं और खास बात यह है कि जो माध्यम आपने फार्म पर अंकित किया था उसी माध्यम से आप Exam दे सकते हैं अगर आप दूसरे माध्यम से परीक्षा देते हैं तो Answer चेक नहीं किया जाता है आपको ऐसा निर्देश प्रत्येक पेपर के ऊपर यानी की Heading में ही लिखा होता है।

इंग्लिश तथा भारतीय भाषा के पेपर में पास होने के लिए सिर्फ 25 Percent अंक लाने होते हैं भारतीय भाषा का Compulsory पेपर अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मणिपुर, सिक्किम तथा मिजोरम के Candidates के लिए mandatory नहीं है यह दोनों पेपर 300 marks के होते हैं तथा शेष सभी पेपर ढाई सौ मार्क्स के होते हैं।

  • पेपर की संख्या

Civil सेवा मुख्य परीक्षा में कुल 9 पेपर होते हैं जिनका की 1750 अंक होता है वहीं general Studies के 4 पेपर होते हैं एक पेपर निबंध का होता है और एक पेपर इंग्लिश का तथा एक भाषा का पेपर होता है दो पेपर ऑप्शनल subject के होते हैं और यह सारे पेपर weekend में होते हैं। इसलिए यह परीक्षा 2 हफ्ते तक चलती है पेपर होने के बाद सिविल सेवा मुख्य परीक्षा का result नवंबर महीने में आ जाता है।

  • सिविल सर्विस मुख्य परीक्षा सिलेबस

Civil service essay paper – इस पेपर में दिए गए Topics में से 3 घंटे में दो निबंध लिखने होते हैं और प्रत्येक निबंध 125 मार्क्स का होता है इसमें Politics, society, Technology, और कुछ Philosophy इत्यादि से Topic दिए जाते हैं।

  • जनरल स्टडीज पेपर -1

इसमें इंडियन हिस्ट्री, कल्चर, World geography और society कवर होता है।

  • जनरल स्टडीज पेपर-2

इसमें गवर्नेंस भारत का संविधान क्वॉलिटी और Social justice और इंटरनेशनल रिलेशन से प्रश्न रहते हैं

  • जनरल स्टडीज पेपर-3

इसमें टेक्नोलॉजी, इकनोमिक डेवलपमेंट, Biodiversity, Environmental, सिक्योरिटी डिजास्टर मैनेजमेंट से प्रश्न रहते हैं।

  • जनरल स्टडीज पेपर-4

इसमें Ethics, integrity and Aptitude रहते हैं।अगर साधारण भाषा में कहा जाए तो आप क्या सोचते हैं आपके विचार(idea) कैसे हैं किसी घटना(incident) को लेकर आप कैसे व्यक्त करते हैं जैसे खुशी क्या है इसका उत्तर अलग-अलग लोगों के लिए अलग अलग होता है आपको पता होना चाहिए कि एक सैनिक(Soldier) के लिए मोर्चे(Front) पर जीत उसकी खुशी हो सकती है और एक छात्र के लिए Exams में टॉप करना खुशी हो सकती है इससे संबंधित विषयों पर आधारित होती है।

  • Civil service Mains Exam

सभी जनरल स्टडीज के पेपरों में 20 Questions होते हैं जिनका उत्तर आपको 3 घंटे में देना होता है और प्रत्येक 10 Marks के लिए डेढ़ सौ शब्दों की तथा 15 Marks के लिए ढाई सौ शब्दों की शब्द सीमा भी निर्धारित रहती है परंतु ethics के पेपर में Case studies आती है इसलिए उसमें सिर्फ 12 प्रश्न ही पूछे जाते हैं और पेपर का structure फिक्स नहीं होता है और यह किसी भी साल बदल सकता है।

  • ऑप्शनल सब्जेक्ट का चुनाव एवं महत्व

आपको बता दें कि ऑप्शनल सब्जेक्ट के पेपर में 8 question होते हैं जिसका 3 घंटे में ही उत्तर देना होता है।

यह कहना सही नहीं है कि सामान्य अध्ययन 1000 अंकों का है और वैकल्पिक विषय(optional subject) सिर्फ 500 अंकों का है इसलिए अभ्यर्थियों को सामान्य अध्ययन पर ज्यादा बल देना चाहिए।

ऐसा कहने वाले शायद वैकल्पिक विषय के रणनीति महत्व(Strategy importance) को नहीं समझते हैं और इस परीक्षा में यह बात बिल्कुल मायने भी नहीं रखती है कि किसी अभ्यर्थियों को कितने numbers हासिल हुए हैं महत्त्व इस बात का है कि किसी Candidate को अन्य Competitors की तुलना में कितने कम या अधिक अंक प्राप्त हुए हैं।

पिछले कुछ वर्षों के exam परिणामों पर नजर डालें तो आप को यह पता चल जाएगा कि हिंदी माध्यम के लगभग(Nearly) सभी गंभीर Candidates को सामान्य अध्ययन में लगभग 30p से 350 अंक प्राप्त हुए हैं।और अगर इसके विपरीत अंग्रेजी माध्यम के गंभीर अभ्यर्थियों को इसमें औसत रूप से 20 से 30 अंक अधिक हासिल हुए जबकि वैकल्पिक विषय(optional subject) में लगभग सभी गंभीर अभ्यर्थियों को 260 से 325 अंक हासिल हुए हैं इस औसत से optional subject का महत्व अपने आप अब समझ गए होंगे ध्यान रखें कि यह लाभ आपको तभी मिल सकता है जब आप ने वैकल्पिक विषय का चयन बहुत ही सोच समझकर किया हो।

आपको पता होना चाहिए की वैकल्पिक विषय वही चुनना चाहिए जो आपके graduation में subject रहा हो।

और साधारण भाषा में यह भी कह सकते हैं कि जिस विषय में आपकी रुचि है वही Alternative सब्जेक्ट को चुनना चाहिए।

सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा में Selected अभ्यर्थियों की संख्या कुल सीटों की संख्या से ढाई गुना होती है यानी लगभग 15000 में से 2500 ही Interview के लिए चयनित होते हैं और यह सिविल सेवा का सबसे कठिन चरण होता है और यदि यहां Selection हो गया तो फाइनल सिलेक्शन के Chances बहुत ही ज्यादा बढ़ जाते हैं।

  • पर्सनैलिटी टेस्ट और आईएएस इंटरव्यू
  • Personality test and IAS interview in

जैसे कि आपको पता ही होगा कि इंटरव्यू सिविल सेवा Main exam का दूसरा भाग होता है जिसे Personality test भी कहते हैं यह इंटरव्यू 275 मार्क्स का होता है इसे सामान्य भाषा में आईएएस इंटरव्यू भी कहते हैं इसका सिलेबस निर्धारित नहीं है तथा आपके Details Applications Form यानी DAF से अधिकांश प्रश्न पूछे जाते हैं इसलिए DAF आपको पूरी सावधानी और पूरी सच्चाई के साथ भरनी चाहिए।

IAS Interview के लिए अभ्यर्थियों को यूपीएससी की दिल्ली स्थित धौलपुर हाउस building में आना होता है यहां Candidates के सभी ओरिजिनल Documents का verification किया जाता है तथा एक Common hall में बैठा दिया जाता है और यूपीएससी के Members की अध्यक्षता में एक Interview panel बनाए जाते हैं जो कि अभ्यर्थियों का Interview लेते हैं इंटरव्यू पैनल में देश की विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े हुए दिग्गजों को आमंत्रित किया जाता है जिसमें से I a s इंटरव्यू में अभ्यर्थी का Confidence और एटीट्यूड तथा प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स चेक की जाती है यहां अभ्यर्थियों की पर्सनैलिटी का सब्जेक्टिव assessment किया जाता है तथा Maximum 275 मार्क्स में से Marks दिए जाते हैं।

NOTE:- यहां पर एक बात और आती है कि क्या आईएएस के इंटरव्यू में फेल हो जाने पर भी नौकरी मिलेगी।

तो इसके ऊपर अभी Government विचार कर रही है तो आइए जानते हैं I a s टॉपर के इंटरव्यू के बारे में
Civil Services के इंटरव्यू लगभग 20 दिन तक चलते हैं तथा इंटरव्यू खत्म होने के 10 दिन के बाद ही Final result आ जाता है फाइनल मेरिट लिस्ट इंटरव्यू तथा सिविल सेवा मुख्य परीक्षा लिखित के Marks मिलाकर बनती है इसका अर्थ यह है कि अधिकतम 2025 मार्क्स में से फाइनल मेरिट लिस्ट बनती है जिसके आधार पर सर्विस प्रदान की जाती है लगभग 100 रैंक तक के अभ्यर्थियों को आईएस सेवा मिल जाती है।

रिजल्ट के कुछ दिन बाद यूपीएससी अपनी Recommendations को Ministry of personal को भेजता है जिसके बाद ही सबको Appointment letter जारी किए जाते हैं जो अभ्यर्थी फाइनल रिजल्ट में जगह नहीं बना पाते हैं उन्हें पूरी प्रक्रिया से फिर से गुजरना होता है।

नाकामयाब लोग दुनिया के डर से अपने फैसले बदल देते हैं और कामयाब लोग अपने फैसले से पूरी दुनिया बदल देते हैं

तो हमें उम्मीद है कि आपको सिविल सेवा के फॉर्म भरने से लेकर सिलेक्शन तक का सारा Process आपको पता चल गया होगा तो हमें आशा है कि यह आर्टिकल  आपको पसंद आया होगा।

तो आप से रिक्वेस्ट है आप सोशल मीडिया एजुकेशन ग्रुप जैसे व्हाट्सएप, फेसबुक और भी अदर सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर जरूर करें ताकि दूसरे students को भी इसकी जानकारी मिल सके, धन्यवाद

Extra points

Generally speaking, the IAS preliminary and mains examinations are conducted to test candidates’ academic and general awareness with regards to a diverse range of topics; on the other hand, IAS Interview like any other recruitment test the personality and Demperament of the candidate.

IAS Interview Questions: As of now, the IAS interview panel consists of eminent personalities from different fields and is headed by a chairman. Unlike the IAS mains and prelims examination, the interview stage has no fixed format or pattern and the panel is free to ask candidates questions from technical, academic as well as non-academic fields. To cut the chase short, IAS Interview questions can range from any topic, can be of any intensity, might be funny, quirky or downright ridiculous. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *